30 Mar 2011

कैसा रहेगा आपके लिए 31 मार्च और 1 अप्रैल का दिन ??

31 मार्च और 1 अप्रैल को मेष लग्‍नवालों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण पिता पक्ष , सामाजिक पक्ष , कैरियर , हर प्रकार के लाभ से संबंधित मामलों पर बना रहेगा , क्‍यूंकि इससे संबंधित कुछ कठिनाई या समस्‍याएं बढे हुए रूप में उपस्थित दिखाई पडेंगी। धन , परिवार और घर गृहस्‍थी आदि के कार्य भी उपस्थित दिखाई पडेंगे । अन्‍य पक्षों की स्थिति सामान्‍य तौर अच्‍छी बनी रहेगी।


31 मार्च और 1 अप्रैल को वृष लग्‍नवालों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण भाग्‍य , धर्म , पिता पक्ष , सामाजिक पक्ष , कैरियर से संबंधित मामलों पर बना रहेगा , क्‍यूंकि इससे संबंधित कुछ कठिनाई या समस्‍याएं बढे हुए रूप में उपस्थित दिखाई पडेंगी। स्‍वास्‍थ्‍य , आत्‍मविश्‍वास , प्रभाव आदि के कार्य भी उपस्थित दिखाई पडेंगे । अन्‍य पक्षों की स्थिति सामान्‍य तौर अच्‍छी बनी रहेगी।


31 मार्च और 1 अप्रैल को मिथुन लग्‍नवालों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण भाग्‍य , धर्म , रूटीन , जीवनशैली पितापक्ष , सामाजिक पक्ष , कैरियर से संबंधित मामलों पर बना रहेगा , क्‍यूंकि इससे संबंधित कुछ कठिनाई या समस्‍याएं बढे हुए रूप में उपस्थित दिखाई पडेंगी। अपनी या संतान पक्ष की पढाई लिखाई , कैरियर  आदि के कार्य भी उपस्थित दिखाई पडेंगे । अन्‍य पक्षों की स्थिति सामान्‍य तौर अच्‍छी बनी रहेगी।


31 मार्च और 1 अप्रैल को कर्क लग्‍नवालों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण घर गृहस्‍थी  , रूटीन या जीवन शैली से संबंधित मामलों पर बना रहेगा , क्‍यूंकि इससे संबंधित कुछ कठिनाई या समस्‍याएं बढे हुए रूप में उपस्थित दिखाई पडेंगी। माता पक्ष , किसी प्रकार की छोटी या बडी संपत्ति या लाभ आदि के कार्य भी उपस्थित दिखाई पडेंगे । अन्‍य पक्षों की स्थिति सामान्‍य तौर अच्‍छी बनी रहेगी।


31 मार्च और 1 अप्रैल को सिंह लग्‍नवालों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण घर गृहस्‍थी , प्रभाव से संबंधित मामलों पर बना रहेगा , क्‍यूंकि इससे संबंधित कुछ कठिनाई या समस्‍याएं बढे हुए रूप में उपस्थित दिखाई पडेंगी। भाई , बहन या अन्‍य बंधु , पिता पक्ष , सामाजिक पक्ष या कैरियर आदि के कार्य भी उपस्थित दिखाई पडेंगे । अन्‍य पक्षों की स्थिति सामान्‍य तौर अच्‍छी बनी रहेगी।


31 मार्च और 1 अप्रैल को कन्‍या लग्‍नवालों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण अपनी या संतान पक्ष की पढाई लिखाई या प्रभावसे संबंधित मामलों पर बना रहेगा , क्‍यूंकि इससे संबंधित कुछ कठिनाई या समस्‍याएं बढे हुए रूप में उपस्थित दिखाई पडेंगी। भाग्‍य , धर्म , धन या कोष  आदि के कार्य भी उपस्थित दिखाई पडेंगे । अन्‍य पक्षों की स्थिति सामान्‍य तौर अच्‍छी बनी रहेगी।


31 मार्च और 1 अप्रैल को तुला लग्‍नवालों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण माता पक्ष  , छोटी या बडी संपत्ति , अपनी या संतान पक्ष की पढाई लिखाई से संबंधित मामलों पर बना रहेगा , क्‍यूंकि इससे संबंधित कुछ कठिनाई या समस्‍याएं बढे हुए रूप में उपस्थित दिखाई पडेंगी। स्‍वास्‍थ्‍य , आत्‍मविश्‍वास , रूटीन और जीवन शैली आदि के कार्य भी उपस्थित दिखाई पडेंगे । अन्‍य पक्षों की स्थिति सामान्‍य तौर अच्‍छी बनी रहेगी।


31 मार्च और 1 अप्रैल को वृश्चिक लग्‍नवालों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण भाई , बहन या अन्‍य बंधु , माता पक्ष , छोटी या बडी किसी प्रकार की संपत्तिसे संबंधित मामलों पर बना रहेगा , क्‍यूंकि इससे संबंधित कुछ कठिनाई या समस्‍याएं बढे हुए रूप में उपस्थित दिखाई पडेंगी। घर गृहस्‍थी , खर्च और बाहरी संदर्भों  के कार्य भी उपस्थित दिखाई पडेंगे । अन्‍य पक्षों की स्थिति सामान्‍य तौर अच्‍छी बनी रहेगी।


31 मार्च और 1 अप्रैल को धनु लग्‍नवालों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण धन , कोष , भाई बहन या अन्‍य बंधु बांधव से संबंधित मामलों पर बना रहेगा , क्‍यूंकि इससे संबंधित कुछ कठिनाई या समस्‍याएं बढे हुए रूप में उपस्थित दिखाई पडेंगी। लाभ और प्रभाव  आदि के कार्य भी उपस्थित दिखाई पडेंगे । अन्‍य पक्षों की स्थिति सामान्‍य तौर अच्‍छी बनी रहेगी।


31 मार्च और 1 अप्रैल को मकर लग्‍नवालों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण स्‍वास्‍थ्‍य , धन से संबंधित मामलों पर बना रहेगा , क्‍यूंकि इससे संबंधित कुछ कठिनाई या समस्‍याएं बढे हुए रूप में उपस्थित दिखाई पडेंगी। अपनी या संतान पक्ष की पढाई लिखाई , पिता पक्ष , सामाजिक पक्ष या कैरियर आदि के कार्य भी उपस्थित दिखाई पडेंगे । अन्‍य पक्षों की स्थिति सामान्‍य तौर अच्‍छी बनी रहेगी।


31 मार्च और 1 अप्रैल को कुंभ लग्‍नवालों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण स्‍वास्‍थ्‍य , आत्‍मविश्‍वास , खर्च और बाहरी संदर्भोंसे संबंधित मामलों पर बना रहेगा , क्‍यूंकि इससे संबंधित कुछ कठिनाई या समस्‍याएं बढे हुए रूप में उपस्थित दिखाई पडेंगी।  मातृ पक्ष , हर प्रकार की संपत्ति या धर्म आदि के कार्य भी उपस्थित दिखाई पडेंगे । अन्‍य पक्षों की स्थिति सामान्‍य तौर अच्‍छी बनी रहेगी।


31 मार्च और 1 अप्रैल को मीन लग्‍नवालों का ध्‍यान संकेन्‍द्रण लाभ , खर्च और बाहरी संदर्भों से संबंधित मामलों पर बना रहेगा , क्‍यूंकि इससे संबंधित कुछ कठिनाई या समस्‍याएं बढे हुए रूप में उपस्थित दिखाई पडेंगी। भाई , बहन या अन्‍य बंधु , रूटीन और जीवनशैली आदि के कार्य भी उपस्थित दिखाई पडेंगे । अन्‍य पक्षों की स्थिति सामान्‍य तौर अच्‍छी बनी रहेगी।



No comments:

Post a Comment

टिप्‍पणी के रूप में आपके विचारों और सुझावों का स्‍वागत है ....